loading...
Loading...

Friday, 14 July 2017

आतंकी में प्यार खोज रही थी स्नेहलता, धर्म भी गंवाया, इज़्ज़त भी लुटवाई, और अंत में 3 शब्द !


विशेष समुदाय के लोग द्वारा पहले तो भोली-भाली मासूम हिन्दू लड़कियों को अपने झूठे प्रेम जाल में फ़ंसाना और फिर उनसे निकाह करके उन हिन्दू लड़कियों का धर्म परिवर्तन कराना और फिर उनका शोषण कर उन्हें छोड़ देना, ये है लव जिहाद की परिभाषा। 
और तीन तलाक होता हैं जिसमें मुस्लिम पुरुष या युवक को आज़ादी होती हैं कि वो अपनी पत्नी को बिना कोई वजह दिए तीन बार तलाक कहकर तलाक दे सकता हैं फिर चाहे पीड़ित महिला गिड़गिड़ाए, रोए, उस पीड़ित महिला को कोई हक़ नहीं होता इससे इंकार करने का.
आप सोच रहे होंगे इन दोनों का क्या कनेक्शन हैं. कनेक्शन एक ऐसे ही मामले से हैं जहां आरोपी शमशुद्दीन ने अपनी बीवी स्नेहलता सिंह उर्फ़ शमशुन निशा को फ़ोन पर तीन बार तलाक कहकर तलाक दे दिया। बता दें कि स्नेहलता उर्फ़ शमशुन की आरोपी शम्सुद्दीन से एक छोटी बेटी भी हैं. 
पीड़ित महिला स्नेहलता सिंह ने बताया कि आरोपी शम्सुद्दीन शाह से 19 मार्च 2013 में प्रेम विवाह किया था. निकाह के बाद आरोपी शम्सुद्दीन के कहने पर स्नेहलता धर्मपरिवर्तन कर इस्लाम मज़हब अपनाया और स्नेहलता सिंह से शमशुन निशा बन गयी.



वर्ष 18 जुलाई 2012 में आरोपी शम्सुद्दीन का नाम नागपुर के एक बम ब्लास्ट में आया जिसकी जांच महाराष्ट्र पुलिस द्वारा अभी भी जारी हैं. अपने पति को राष्ट्रीयविरोधी कार्यो में सम्मिलित पाकर स्नेहलता उर्फ़ शमशुन ने अपने आरोपी शौहर का विरोध किया तो आरोपी शम्सुद्दीन ने स्नेहलता को मारना पीटना शुरू कर दिया और तलाक की धमकिया भी देने लगा. 
बम ब्लास्ट मामले में आरोपी शम्सुद्दीन को नागपुर जेल भेज दिया गया. 21 अक्टूबर 2014 में आरोपी के जेल से बाहर आने के बाद आरोपी ने अपनी बीवी स्नेहलता उर्फ़ शमशुन को अपने गुस्से का शिकार बनाकर उस पर और ज़ुल्म करना शुरू कर दिया.
साल 2017 मई 25 में लगभग 5 बजे उसने स्नेहलता उर्फ़ शमशुन को फ़ोन पर तलाक दे दिया. पीड़ित महिला स्नेहलता ने अपने शौहर पर लव जिहाद के आरोप लगाए हैं. पीड़िता स्नेहलता ने बताया कि उसका आरोपी शौहर शम्सुद्दीन उसे और उसकी मासूम छोटी बच्ची को बेसहारा छोड़ कर मीना कुशवाह नाम की हिन्दू लड़की के साथ रह रहा हैं. उसे डर हैं कही आरोपी उस लड़की को भी अपना शिकार न बना ले. इसीलिए स्नेहलता ने हिंदूवादी संघठन महिला के साथ मिलकर पुलिस से कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

No comments: