loading...
Loading...

Friday, 9 June 2017

कांग्रेस की मानसिकता : देश को अपने बाप का माल समझते है, सत्ता जन्मसिद्ध अधिकार समझते है

मध्यप्रदेश के मंदसौर में जो कुछ भी हो रहा है, वह ना तो मोदी के खिलाफ, ना ही शिवराज सिंह के खिलाफ और ना ही भाजपा के खिलाफ हो रहा है..... यह सब खुलकर देश की जनता के खिलाफ हो रहा है, 

और मात्र इसलिए हो रहा है कि आखिर जनता की हिम्मत हुई कैसे उन लोगों को सत्ता से बेदखल करने कि जो लोग देश पर लगातार शासन करते हुए आ रहे है, एक के बाद एक प्रधानमंत्री अपने बाप के पेट से पैदा होकर बना है 

नेहरू फिर इंदिरा फिर राजीव और फिर 2004 से 2014 तक सोनिया-राहुल 


आपको याद है पिछले दिनों कांग्रेस के लोकसभा में नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने एक बयान दिया था, "इस देश को नेहरू-गाँधी ने आज़ाद करवाया है, बाकि किसी के कुत्ते का भी कोई योगदान नहीं है"

सोचिये जब कांग्रेस के नेता ये मानसिकता रखते होंगे तो फिर सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी क्या मानसिकता रखते होंगे 
वो तो खुद को इस देश का मालिक ही समझते होंगे, और हिम्मत कैसे हुई देश की जनता की, की  उन्होंने देश के मालिकों को सत्ता से बाहर कर 
एक चायवाले को देश की सत्ता दे दी 


बस उसी का बदला ले रहे है ये लोग जो भारत की जनता को अपना गुलाम समझते थे.....

अगर हम गलत है तो फिर कोई हमे यह बताये कि आखिर सिर्फ भाजपा शासित राज्यों मे ही पूरे ब्रह्माण्ड की मुसीबत क्यों है??

क्या बिहार की जनता ने ऋण नही लिया हुआ है?
क्या दिल्ली की जनता ने ऋण नही लिया हुआ है?

क्या बंगाल की जनता ने ऋण नही लिया हुआ है??
क्या केरल की जनता ने ऋण नही लिया हुआ है?

क्या पंजाब की जनता ने ऋण नही लिया हुआ है??
क्या बिहार,बंगाल,केरल,दिल्ली, पंजाब मे किसान होते ही नही है???

गंभीरता से सोचो! यह सब कुछ ना तो किसानों से संबंधित है और ना ही गरीबी या दलित उत्पीड़न से....यह सब षडयंत्र है ,, आप के खिलाफ ....आपके देश के खिलाफ ....आपके जीवन के खिलाफ......इसलिए हे भारतीयों!! जागो .