loading...
Loading...

Friday, 5 May 2017

नहीं मिला निर्भया को न्याय : निर्भया का हत्यारा मोहम्मद अफरोज है स्वतन्त्र। फर्जी न्याय व्यवस्था।

 देश की सबसे बड़ी अदालत यानि सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया के 4 दोषियों की फांसी की सजा बरक़रार रखी
और उसके बाद मीडिया ने कहना शुरू कर दिया की निर्भया को न्याय मिल गया
न्याय की जीत हुई, न्याय हो गया

इन्ही चारों दरिंदो की सजा सुप्रीम कोर्ट ने बरक़रार रखी



पर क्या असल में निर्भया जो की अब इस दुनिया में नहीं है, उसे न्याय मिल चूका है ?
मीडिया और बुद्धिजीवी तो बता रहे है की निर्भया को पूरा न्याय मिल गया


पर यहाँ एक चीज ये मीडिया वाले और  बुद्धिजीवी भूल रहे है, ये  भूल रहे है या जानबूझकर कह नहीं रहे ये तो जांच का विषय है
क्यूंकि जिस मोहम्मद अफरोज ने निर्भया का असल में क़त्ल किया, इन चारों ने तो इसका गैंगरेप किया
मोहम्मद अफरोज ने निर्भया के गुप्तांगो में लोहे की रोड डाली, उसके  अंतड़ियों को रोड से खोद डाला, अपने हाथों से निर्भया की अंतड़ियाँ बाहर निकाल दी

वो मोहम्मद अफरोज तो बाहर घुम रहा है, वो अब स्वतंत्र है
कारण चाहे जो भी हो, वो  उस समय नाबालिग हो या जो  भी कारण हो, ऐसा कहना की निर्भया जो की मोहम्मद अफरोज के कारण मर चुकी है, उसे पूर्ण न्याय मिल गया
ये अपने आप में ही अन्यायपूर्ण कथन है, सच यही है, और यही रहेगा की निर्भया को हमारा कानून संविधान और नियम इत्यादि पूर्ण न्याय नहीं दिलवा सके

और चूँकि मोहम्मद अफरोज मुसलमान था इसलिए हमारे बुद्धिजीवी कभी इस मुद्दे पर बात नहीं करेंगे