loading...
Loading...

Thursday, 16 March 2017

आज EVM की जगह बैलट-पेपर मांग रहे हैं कल दिल्ली में मेट्रो की जगह बैलगाड़ी चलाएंगे केजरीवाल

नई दिल्ली, 16 मार्च: अगले महीने दिल्ली नगर निगम चुनावों के लिए EVM के बजाय बैलट पेपर पर चुनाव कराने की मांग करने वाले केजरीवाल का सोशल मीडिया पर मजाक बनना शुरू हो गया है, लोग कह रहे हैं कि केजरीवाल 10 साल पीछे जाने की सोच रखने वाले नेता हैं, आज वे EVM की जगह बैलट पेपर पर चुनाव कराने की मांग कर रहे हैं, कल मेट्रो की जगह बैलगाड़ी की मांग करेंगे, पोस्ट ऑफिस की जगह कबूतर की मांग करेंगे, पुलिस के हाथों में बन्दूक की जगह तीर-कमान की मांग करेंगे और खुद को मुख्यमंत्री के बजाय कबीले का सरदार कहें जाने की मांग करेंगे।

जानकारी के लिए बता दें कि पंजाब और गोवा में अपनी हार से बचने के लिए केजरीवाल ने आरोप लगाया है कि बीजेपी वालों ने EVM मशीनों में गड़बड़ी करके AAP के वोट को कांग्रेस के अकाउंट में डाल दिया, बीजेपी वाले दिल्ली नगर निगम में भी मशीनों में गड़बड़ी करेंगे इसलिए बैलट पेपर पर दिल्ली नगर निगम के चुनाव कराये जाँय।


जानकारी के लिए यह भी बता दें कि भारत जैसी बड़ी आबादी वाले देश में बैलट-पेपर पर चुनाव कराना काफी मंहगा होता है, लाखों लोगों को इस काम में लगाना पड़ता है, बहुत पहले से इंतजाम करना पड़ता है, हजारों करोड़ रुपये खर्च हो जाते हैं जिसकी भरपाई करने के लिए मंहगाई बढानी पड़ती है, टैक्स बढ़ाना पड़ता है, लोगों को कष्ट देना पड़ता है, इसके अलावा चुनाव कराने और वोटों की गिनती में काफी समय लगता है, बूथ कैप्चरिंग का भी डर रहता है।

इसी सब को देखते हुए भारत में EVM मशीने लाई गयी थीं, हजारों करोड़ रुपये खर्च किये गए थे लेकिन आज भारत की राजनीतिक पार्टियाँ अपनी हार से बचने के लिए EVM मशीनों में गड़बड़ी करने का आरोप लगा रहे हैं और जनता के मन में चुनाव आयोग के लिए अविश्वास पैदा कर रहे हैं जो कि संविधान और लोकतंत्र के लिए बहुत ही खतरनाक है।