loading...
Loading...

Sunday, 19 March 2017

इस्लाम की सच्चाई बताने वाले फारूक की मुस्लिम कट्टरपंथियों ने की हत्या, अभिव्यक्ति की आजादी मांगने वाले खामोश !

नई दिल्ली। तमिलनाडु के कोयम्बटूर में मुस्लिम कट्टरपंथियों ने एक मुस्लिम युवक गला रेत कर हत्या कर दी। 31 साल के फारुक नाम का ये शख्स फेसबुक पर धर्म और धार्मिक रीति रिवाजों के खिलाफ लिखता रहता था। पेशे से लोहे के स्क्रैप का व्यवसाय करने वाले फारुक के विचारों से कुछ कट्टरपंथी बेहद खफ़ा थे। कुछ दिनों से फारुक लगातार इस्लाम के खिलाफ पोस्ट डाल रहा था।

कोयम्बटूर के दक्षिण उक्कडम का रहने वाला फारुक द्रविडर विदुथलाई कडगम (डीवीके) नाम के संगठन का सदस्य था। पुलिस के मुताबिक फारुक धार्मिक परंपराओं पर तार्किक विचार रखने वाले एक व्हाट्सअप ग्रुप का एडमिन था और उसने फेसबुक और व्हाट्सअप पर कुछ ऐसे विचार लिखे थे जो मुस्लिम समुदाय के लोगों को पसंद नहीं आया था। पुलिस का कहना है कि धर्म का विरोध उसकी हत्या की एक वजह हो सकती
पुलिस के मुताबिक गुरुवार की रात 11 बजे दक्षिण उक्कडम स्थित अपने घर से एक फोन कॉल रिसीव करने के बाद बाद फारुक स्कूटर से बाहर निकला, फारुक अभी उक्कडम बायपास के पास पहुंचा ही था कि मोटरसाइकिल पर सवार चार लोगों ने उसे घेर लिया, उसने भागने की कोशिश की लेकिन भाग नहीं सका। सड़क पर हंगामे की आवाज़ सुनकर जब कुछ लोग बाहर पहुंचे तब कर हमलावर भाग चुके थे और फारुक सड़क पर पड़ा हुआ था, उसके शरीर पर गहरे जख्म के निशान थे।

कोयम्बटूर के डीसीपी एस श्रवणनन ने कहा कि पुलिस कई जगहों से सीसीटीवी वीडियो निकालकर हमलावरों की तलाश करने में जुटी है। अब तक मिली जानकारी के मुताबिक फारुक के मोबाइल पर जो सबसे अंतिम कॉल आया था वो वेल्लोर के फर्जी पते से लिये गये एक सिम से किया गया था।