loading...
Loading...

Monday, 27 February 2017

महाशिवरात्रि पर मंदिर में मुसलमानों ने की पूजा,पंडितों से कहा- वापस आ जाओ अगले साल साथ मनाएंगे शिवरात्रि


कश्मीर के बांदीपुरा का शिवमंदिर इस बार महाशिवरात्रि के दौरान अनोखे भक्तों का गवाह बना। आतंकवाद और हिंसा की दंश झेल रहे इस मंदिर में शिवरात्रि को भोले की पूजा करने कई मुस्लिम भक्त आए। शिव के इन ख़ास भक्तों ने पहले पूरे मंदिर परिसर की सफाई की, इसकी साज-सज्जा की। इसके बाद पूरे विधि-विधान से भगवान महादेव को जल अर्पित किया। बांदीपुरा के स्थानीय मुसलमानों ने शंकर भगवान को मिठाइयां और फल भी चढ़ाए। कभी ये मंदिर देश के दूसरे शिवालयों की तरह ही गुलजार रहता था।  तब कश्मीर में अमन और चैन का दौर था। मंदिर में शंख की ध्वनि बजती, मंत्रोच्चारण होते, महादेव को बिल्व और पुष्प चढ़ाये जाते थे। कश्मीरी पंडित मंदिर में पूजा करते और इसकी देखरेख करते। लेकिन जब कश्मीर में आतंकवाद के नाग ने अपना फन उठाया, धीरे-धीरे यहां की फिजा में नफरत घुलती गई और कश्मीरी पंडितों को अपना घर-बार छोड़कर घाटी से भागना पड़ा। इसके साथ ही इस मंदिर की रौनक भी जाती रही।
लेकिन एक बार फिर से बदलाव की बयार यहां बही है। इस शिवरात्रि के दौरान इस मंदिर के दर पर कई कश्मीरी मुस्लिम पहुंचे, उन्होंने अपने साथ एक-एक तख़्ती ली हुई थी, इसमें लिखा था ‘हमने हिंसा का दौर बहुंत देखा’, ‘आइए अगली शिवरात्रि को हम मिलजुल कर मनाएं’
एनडीटीवी के मुताबिक एक कश्मीरी मुसलमान ने कहा कि कश्मीरी पंडित हमारे शरीर और रुह का हिस्सा हैं। लेकिन कुछ तत्वों ने उन्हें इससे अलग कर दिया है।  कश्मीरी मुसलमानों ने कहा कि आज हम अपने कश्मीरी पंडित भाइयों को ये संदेश देना चाहते हैं कि, ‘ अब आप लोग लौट आएं, हम आपके साथ हैं’।

No comments: