loading...
Loading...

Monday, 23 January 2017

जल्लीकट्टू नहीं अगर बैन लगाना है तो ‘हलाल मीट’ पर लगाओ, पशुओं की हत्या रोको: सुब्रमनियम स्वामी

ब्रमनियम स्वामी ने आज जल्लीकट्टू का समर्थन करते हुए कहा कि इस कार्यक्रम में जानवरों के साथ कोई क्रूरता नहीं की जाती और आज तक किसी भी बैल की जान नहीं गयी है।

स्वामी ने कहा कि अगर जल्लीकट्टू को जानवरों के साथ क्रूरता बताया जा रहा है तो हलाल मीट को भी बैन करना चाहिए क्योंकि उसमें जानवरों की हत्या की जाती है। उन्होंने PETA संस्था पर हमला बोलते हुए कहा कि इस संस्था में विदेशी भरे पड़े हैं जो जानवरों को खाते हैं और हमारी संस्कृति विल्कुल भी नहीं समझते। जल्लीकट्टू में पशुओं के साथ कोई क्रूरता नहीं होती उल्टा इससे पशुओं की नश्ल बढ़िया करने पर जोर दिया जाता है।


आज चेन्नई के मरीना बीच पर पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच भिडंत हो गयी जिसके बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों की पिटाई कर दी और उन्हें घसीटकर बीच से भगा दिया, प्रदर्शनकारियों ने पुलिस वालों को धमकी देते हुए कहा कि अगर उन्हें भगाया गया तो वे आत्महत्या कर लेंगे लेकिन पुलिस ने उनकी के नहीं सुनी और उन्हें भगा दिया। 

पुलिस के इस कदम का बीजेपी सांसद से स्वागत किया, उन्होंने पुलिस के कदम को सही बताते हुए कहा कि पुलिस ने विल्कुल सही किया है। उन्होंने कहा कि जब राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने प्रदर्शनकारियों की सभी मांगें मान ली हैं तो अब प्रदर्शन करने और हिंसा करने की जरूरत क्या है, कल जल्लीकट्टू पर अध्यादेश पास किया गया और आज तमिल नाडु सरकार इसे बिल का रूप दे रही है इसके बाद भी प्रदर्शन किया जा रहा है। 

बीजेपी ने यह भी कहा कि इस प्रदर्शन के पहले आयोजनकर्ता जो तमिल सिंगर भी हैं उन्होंने प्रदर्शन ख़त्म करने की अपील की है, उन्होंने यह भी कहा है कि अब एंटी नेशनल लोग भी प्रदर्शन में शामिल हो गए हैं जो सही नहीं है। जानबूझकर राज्य में हिंसा फैलाने की कोशिश की जा रही है।

No comments: